Tuesday, February 5, 2008

जब यह दीप थके


छायावादी युग की प्रमुख स्तंभ तथा आधुनिक मीरा के नाम से जाने जानी वाली कवियत्री द्वारा रचित जब यह दीप थके


जब यह दीप थके


जब यह दीप थके तब आना।


यह चंचल सपने भोले है,

दृग-जल पर पाले मैने, मृदु

पलकों पर तोले हैं;

दे सौरभ के पंख इन्हें सब नयनों मे पहुँचाना!


साधें करुणा-अंक ढली है,

सान्ध्य गगन-सी रंगमयी पर

पावस की सजला बदली है;

विद्युत के दे चरण इन्हें उर-उर की राह बताना!


यह उड़ते क्षण पुलक-भरे है,

सुधि से सुरभित स्नेह-धुले,

ज्वाला के चुम्बन से निखरे है;

दे तारो के प्राण इन्ही से सूने श्वास बसाना!


यह स्पन्दन है अंक-व्यथा के

चिर उज्जवल अक्षर जीवन की

बिखरी विस्मृत क्षार-कथा के;

कण का चल इतिहास इन्हीं से लिख-लिख अजर बनाना!


लौ ने वर्ती को जाना है

वर्ती ने यह स्नेह, स्नेह ने

रज का अंचल पहचाना है;

चिर बन्धन में बाँध इन्हें धुलने का वर दे जाना!



-----महादेवी वर्मा

प्रमुख काव्य संग्रह

दीपशिखा , प्रथम आयाम , नीहार , रश्मि , नीरजा , सांध्यगीत , अग्निरेखा , दीपगीत , नीलाम्बरा , आत्मिका

1 comment:

mehek said...

bahut badhiya kavita.

Popular Posts