Monday, March 17, 2008

समझे वही इसको जो हो दीवाना किसी का

समझे वही इसको जो हो दीवाना किसी का
'अकबर' ये ग़ज़ल मेरी है अफ़साना किसी का

गर शैख़ो-बहरमन सुनें अफ़साना किसी का
माबद न रहे काब-ओ-बुतख़ाना किसी का

अल्लाह ने दी है जो तुम्हे चाँद-सी सूरत
रौशन भी करो जाके सियहख़ाना किसी का

अश्क आँखों में आ जाएँ एवज़ नींद के साहब
ऐसा भी किसी शब सुनो अफ़साना किसी का

इशरत जो नहीं आती मिरे दिल में, न आए
हसरत ही से आबाद है वीराना किसी का

करने जो नहीं देते बयाँ हालते-दिल को
सुनिएगा लबे-गोर से अफ़साना किसी का

कोई न हुआ रूह का साथी दमे-आखि़र
काम आया न इस वक्त़ में याराना किसी का

हम जान से बेज़ार रहा करते हैं 'अकबर'

जब से दिले-बेताब है दीवाना किसी का



अकबर इलाहाबादी

1 comment:

मीत said...

वाह भाई वाह. ये सही काम कर रहे हैं आप. बधाई. पढ़कर मज़ा आ गया.

Popular Posts