Sunday, May 10, 2015


ऐसा नहीं कि उन से मोहब्बत नहीं रही
जज़्बात में वो पहले-सी शिद्दत नहीं रही

सर में वो इंतज़ार का सौदा नहीं रहा
दिल पर वो धड़कनों की हुक़ूमत नहीं रही

पैहम तवाफ़े-कूचा-ए-जानाँ के दिन गए
पैरों में चलने-फिरने की ताक़त नहीं रही

चेहरे की झुर्रियों ने भयानक बना दिया
आईना देखने की भी हिम्मत नहीं रही

कमज़ोरी-ए-निगाह ने संजीदा कर दिया
जलवों से छेड़-छाड़ की आदत नहीं रही

अल्लाह जाने मौत कहाँ मर गई 'ख़ुमार'
अब मुझको ज़िन्दगी की ज़रूरत नहीं रही

-ख़ुमार बाराबंकवी

मोहब्बत  जज़्बात  शिद्दत  इंतज़ार  हुक़ूमत  पैहम तवाफ़े-कूचा-ए-जानाँ  ताक़त  हिम्मत  कमज़ोरी-ए-निगाह  संजीदा  जलवों   ज़िन्दगी  ज़रूरत

No comments:

Popular Posts