Showing posts with label आज के कथाकार. Show all posts
Showing posts with label आज के कथाकार. Show all posts

Tuesday, August 22, 2017

हरिशंकर परसाई


मध्यप्रदेश के होशंगाबाद जिले के जमानी नामक गाँव में 22 अगस्त 1924 को जन्मे हरिशंकर परसाई हिंदी साहित्य की प्रगतिशील परम्परा के प्रतिनिधि रचनाकार हैं। जीवन के अनेक अभावों से संघर्ष करते हुए नागपुर विश्वविद्यालय से हिंदी में एम.ए. और फिर डिप्लोमा इन टीचिंग की उपाधि लेकर हरिशंकर परसाई ने सर्वप्रथम ताकू (इटारसी) के जंगल विभाग में नौकरी करने के बाद 6 महीने खंडवा में अध्यापन कार्य किया।


लगभग सोलह-सत्रह वर्षों तक अनेक विद्यालयों में अध्यापन करने के पश्चात नौकरी से सदा के लिए अवकाश लेकर जीवन पर्यंत स्वतंत्र लेखन किया। परसाई जी ने साहित्य और लेखन को मात्र आजीविका का साधन कभी नहीं माना। इसे वे एक जन-प्रतिबद्ध कार्य मानते रहे। इसीलिए सन् 1956 में 'वसुधा नामक साहित्यिक पत्रिका का प्रकाशन और सम्पादन किया तथा आर्थिक नुकसान के बावजूद सन् 1958 तक वे इसे लगातार निकालते रहे। आज भी हिंदी साहित्य जगत में 'वसुधा' को उसमें छपने वाली साहित्यिक उत्कृष्टता के लिए जाना जाता है। परसाई जी के महत्त्वपूर्ण साहित्यिक अवदान के लिए जबलपुर विश्वविद्यालय ने उन्हें डी.लिट. की मानद उपाधि प्रदान की। सन् 1982 में ‘विकलांग श्रद्धा’ नामक व्यंग्य-संग्रह पर परसाई जी को साहित्य अकादमी ने साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया। परसाई जी को इसके अतिरिक्त अन्य अनेक पुरस्कारों से भी नवाजा गया।


अज्ञेय ने एक बार कहा था कि व्यक्ति का अनुभव संसार ही उसका भाषा संसार भी होता है। परसाई जी का अनुभव संसार अत्यंत विस्तृत और वैविध्यपूर्ण है, इसका प्रतिबिंबन होता है, उनके द्वारा रचित साहित्य में। जीवन, समाज, देश और दुनिया का शायद ही कोई ऐसा विषय हो, जो इस साहित्य में न आया हो। उन्होंने भारतीय समाज के अंतर्विरोधों से लेकर अनेक गम्भीर अंतर्राष्ट्रीय मुद्दों पर समान अधिकार से लिखा। उनकी लेखनी ने हमेशा शोषित के पक्ष में आवाज़ उठायी और उनके जनवादी अधिकारों को लेखन के मंच पर उन्होंने पूरी शिद्दत के साथ अभिव्यक्ति प्रदान की। परसाई ने साहित्य की लगभग सभी विधाओं में लिखा परंतु साहित्य जगत में परसाई की ख्याति एक महान व्यंग्यकार के रूप में अधिक है। हरिशंकर परसाई की प्रकाशित रचनाएँ इस प्रकार हैं-- 'हँसते हैं रोते हैं', 'भूत के पाँव', 'तब की बात और थी', 'जैसे उनके दिन फिरे', 'सदाचार का ताबीज', 'पगडंडियों का जमाना', ' रानी नागफनी की कहानी', 'वैष्णव की फिसलन', 'ठिठुरता हुआ लोकतंत्र', 'अपनी अपनी बीमारी', 'निठल्ले की डायरी', 'मेरी श्रेष्ठ व्यंग्य रचनाएँ', 'बोलती रेखाएँ', 'एक  लड़की पाँच दीवाने', 'तिरछी रेखाएँ', 'और अंत में', 'तट की खोज', 'माटी कहे कुम्हार से', 'पाखंड का अध्यात्म', 'सुनो भई साधो', 'विकलांग श्रद्धा का दौर'', 'परसाई रचनावली (छ: खण्ड)। परसाई जी ने अपने समय की धर्मयुग, सारिका और नयी दुनिया जैसी पत्रिकाओं में सामाजिक-राजनीतिक विषयों पर अनेक कॉलम भी लिखे। परसाई जी की रचनाओं के अनुवाद देशी-विदेशी अनेक भाषाओं में हो चुके हैं। उनका निधन 10 अगस्त 1995 को हुआ|

"परसाई जी की रचनाएं राजनीति, साहित्य, भ्रष्टाचार, आजादी के बाद का ढोंग, आज के जीवन का अन्तर्विरोध, पाखंड और विसंगतियों को हमारे सामने इस तरह खोलती हैं जैसे कोई सर्जन चाकू से शरीर काट-काटकर गले अंग आपके सामने प्रस्तुत करता है। उसका व्यंग्य मात्र हँसाता नहीं है, वरन् तिलमिलाता है और सोचने को बरबस बाध्य कर देता है। कबीर जैसी उनकी अवधूत और निःसंग शैली उनकी एक विशिष्ट उपलब्धि है और उसी के द्वारा उनका जीवन चिंतर मुखर हुआ है। उनके जैसा मानवीय संवेदना में डूबा हुआ कलाकार रोज पैदा नहीं होता। आजादी के पहले का हिंदुस्तान जानने के लिए सिर्फ प्रेमचन्द्र पढ़ना ही काफी है, उसी तरह आजादी के बाद का पूरा दस्तावेज परसाई की रचनाओं में सुरक्षित है। चश्मा लगाकर ‘रामचंद्रिका’ पढ़ाने वाले पेशेवर हिंदी के ठेकेदारों के बावजूद, परसाई का स्थान हिन्दी में हमेशा-हमेशा के लिए सुरक्षित है।"


कहानियाँ

जैसे उनके दिन फिरे (कहानी संग्रह)
भोलाराम का जीव
हँसते हैं रोते हैं (कहानी संग्रह)

उपन्यास

ज्वाला और जल
तट की खोज
रानी नागफनी की कहानी

संस्मरण

तिरछी रेखाएँ

मरना कोई हार नहीं होती
सीधे-सादे और जटिल मुक्तिबोध

लेख

आवारा भीड़ के खतरे
ऐसा भी सोचा जाता है
अपनी अपनी बीमारी
माटी कहे कुम्हार से
काग भगोड़ा
सदाचार का ताबीज
प्रेमचन्द के फटे जूते
वैष्णव की फिसलन
ठिठुरता हुआ गणतंत्र
पगडण्डियों का जमाना
शिकायत मुझे भी है
तुलसीदास चंदन घिसैं
हम एक उम्र से वाकिफ हैं
तब की बात और थी
भूत के पाँव पीछे
बेइमानी की परत

हास्य-व्यंग्य

विकलांग श्रद्धा का दौर
दो नाक वाले लोग
आध्यात्मिक पागलों का मिशन
क्रांतिकारी की कथा
पवित्रता का दौरा
पुलिस-मंत्री का पुतला
वह जो आदमी है न
नया साल
घायल बसंत
संस्कृति
बारात की वापसी
ग्रीटिंग कार्ड और राशन कार्ड
उखड़े खंभे
शर्म की बात पर ताली पीटना
पिटने-पिटने में फर्क
बदचलन
एक अशुद्ध बेवकूफ
भारत को चाहिए जादूगर और साधु
भगत की गत
मुण्डन
इंस्पेक्टर मातादीन चांद पर
तट की खोज
खेती
एक मध्यमवर्गीय कुत्ता
सुदामा का चावल
अकाल उत्सव
खतरे ऐसे भी
कंधे श्रवणकुमार के
दस दिन का अनशन
अपील का जादू

बाल-कहानी

चूहा और मैं
चिट्ठी-पतरी
मायाराम सुरजन

लघुकथाएँ

चंदे का डर
अपना-पराया
दानी
रसोई घर और पाखाना
सुधार
समझौता
यस सर

अश्लील

Wednesday, February 22, 2017

सोहन लाल द्विवेदी

सोहन लाल द्विवेदी (22 फरवरी 1906 - 1 मार्च 1988) हिन्दी के प्रसिद्ध कवि हैं। द्विवेदी जी हिन्दी के राष्ट्रीय कवि के रूप में प्रतिष्ठित हुए। ऊर्जा और चेतना से भरपूर रचनाओं के इस रचयिता को राष्ट्रकवि की उपाधि से अलंकृत किया गया। महात्मा गांधी के दर्शन से प्रभावित, द्विवेदी जी ने बालोपयोगी रचनाएँ भी लिखीं। 1969 में भारत सरकार ने आपको पद्मश्री उपाधि प्रदान कर सम्मानित किया था।

22 फरवरी सन् 1906 को उत्तर प्रदेश के फतेहपुर जिले की तहसील बिन्दकी नामक स्थान पर जन्मे सोहनलाल द्विवेदी हिंदी काव्य-जगत की अमूल्य निधि हैं। उन्होंने हिन्दी में एम.ए. तथा संस्कृत का भी अध्ययन किया। राष्ट्रीयता से संबन्धित कविताएँ लिखने वालो में इनका स्थान मूर्धन्य है। महात्मा गांधी पर आपने कई भाव पूर्ण रचनाएँ लिखी है, जो हिन्दी जगत में अत्यन्त लोकप्रिय हुई हैं। आपने गांधीवाद के भावतत्व को वाणी देने का सार्थक प्रयास किया है तथा अहिंसात्मक क्रान्ति के विद्रोह व सुधारवाद को अत्यन्त सरल सबल और सफल ढंग से काव्य बनाकर 'जन साहित्य' बनाने के लिए उसे मर्मस्पर्शी और मनोरम बना दिया है।

सन् 1941 में देश प्रेम से लबरेज भैरवी, उनकी प्रथम प्रकाशित रचना थी। उनकी महत्वपूर्ण शैली में पूजागीत, युगाधार, विषपान, वासन्ती, चित्रा जैसी अनेक काव्यकृतियाँ सामने आई थी। उनकी बहुमुखी प्रतिभा तो उसी समय सामने आई थी जब 1937 में लखनऊ से उन्होंने दैनिक पत्र 'अधिकार' का सम्पादन शूरू किया था। चार वर्ष बाद उन्होंने अवैतनिक सम्पादक के रूप में “बालसखा” का सम्पादन भी किया था। देश में बाल साहित्य के वे महान आचार्य थे।

1 मार्च 1988 को राष्ट्रकवि सोहनलाल द्विवेदी चिर निद्रा में लीन हो गए।

Popular Posts