Showing posts with label कुसि. Show all posts
Showing posts with label कुसि. Show all posts

Monday, June 11, 2012

जब तक जाना खुद को ...



जब  तक जाना  खुद   को, देर बहुत होगई थी.
वक़्त  कैसे  फ़िसला  हाथ  से, सुइया  तो अबभी  वहीँ  थमी  थी.
समझ  के  जिसको  अपना  इठला  रहा  था, वो  तो  कहीं  और  खड़ी  थी.
जिसे  समझा  मैने  दूर अपने से, वो  तो  मुझसे  ही  जुडी  थी.
समझा  देर  से, कोई  बात  नहीं; लेकिन  देर  बहुत  हो  चली  थी.
जब  तक जाना  खुद   को, मौत सामने खड़ी  थी 
जब  तक जाना  खुद   को, देर बहुत होगई थी.

Thursday, February 7, 2008

पिछली रात को ....



इंतजार जैसे उसका इमान हो
कुछ एसे ही वो इंतजार करता रहा
उस लहर का, जो छोड़ गयी थी
कल रात कुछ सीपिया तो कुछ मोती जैसे कदमो के निशां

लहरों का क्या है ,
आती है ... चली जाती है
पर उस किनारे का क्या
जो देता है उतना ही प्यार उतना ही दुलार
हर आने वाली उस लहर को
जिसे आख़िर मे चले जाना है

पल भर का साथ था,
फिर मिलन इंतजार
हर लौटती उस लहर को,
जो छोड़ आई थी अपने कदम-ए-निशां
उस किनारे पर, पिछली रात को ….

KS

K. Singh © 2008. All rights are reserved. No part of this Article, including text and photographs, may be copied, reproduced or transmitted without the express permission of the author.

Popular Posts