Showing posts with label केदारनाथ सिंह. Show all posts
Showing posts with label केदारनाथ सिंह. Show all posts

Tuesday, March 16, 2010

मातृभाषा


जैसे चींटियाँ लौटती हैं
बिलों में
कठफोड़वा लौटता है
काठ के पास
वायुयान लौटते हैं एक के बाद एक
लाल आसमान में डैने पसारे हुए
हवाई-अड्डे की ओर

ओ मेरी भाषा
मैं लौटता हूँ तुम में
जब चुप रहते-रहते
अकड़ जाती है मेरी जीभ
दुखने लगती है
मेरी आत्मा
--केदारनाथ सिंह

Popular Posts