Showing posts with label रसखान. Show all posts
Showing posts with label रसखान. Show all posts

Friday, February 29, 2008

चिट्ठाजगत Tags: ब्रज

मानुस हौं तो वही रसखान, बसौं ब्रज गोकुल गाँव के ग्वारन।

जो पसु हौं तो कहा बस मेरो, चरौं नित नंद की धेनु मँझारन॥

पाहन हौं तो वही गिरि को, जो धर्यो कर छत्र पुरंदर कारन।

जो खग हौं तो बसेरो करौं मिलि कालिंदीकूल कदम्ब की डारन॥

Popular Posts