Showing posts with label सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन "अज्ञेय". Show all posts
Showing posts with label सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन "अज्ञेय". Show all posts

Thursday, May 27, 2010

खिसक गयी है धूप


पैताने से धीरे-धीरे
खिसक गयी है धूप।
सिरहाने रखे हैं
पीले गुलाब।

क्या नहीं तुम्हें भी
दिखा इनका जोड़-
दर्द तुम में भी उभरा?


सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन "अज्ञेय"








विश्वेश्वराय वरदाय सुरप्रियाय ,लंबोदराय सकलाय जगध्दिताय।
नागाननाय श्रुतियग्यविभुसिताय,गौरीसुताय गणनाथ नमो नमस्ते॥

Popular Posts