सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

Raksha Bandhan | रक्षाबंधन

रक्षाबंधन 

स्व. पंडित प्रताप नारायण मिश्र

स्व. पंडित प्रताप नारायण मिश्र प्रतापनारायण मिश्र (सितंबर, 1856 - जुलाई, 1894) भारतेंन्दु मंडल के प्रमुख लेखक, कवि और पत्रकार थे। पंडित जी का जन्म उन्नाव जिले के अंतर्गत बैजे गाँव निवासी, कात्यायन गोत्रीय, कान्यकुब्ज ब्राहृमण पं. संकटादीन के घर आश्विनी कृष्ण नौमी को संवत 1913 वि. में हुआ था।वह भारतेंदु निर्मित एवं प्रेरित हिंदी लेखकों की सेना के महारथी, उनके आदर्शो के अनुगामी और आधुनिक हिंदी भाषा तथा साहित्य के निर्माणक्रम में उनके सहयोगी थे। भारतेंदु पर उनकी अनन्य श्रद्धा थी, वह अपने को उनका शिष्य कहते तथा देवता की भाँति उनका स्मरण करते थे। भारतेंदु जैसी रचनाशैली, विषयवस्तु और भाषागत विशेषताओं के कारण मिश्र जी "प्रतिभारतेंदु" अथवा "द्वितीयचंद्र" कहे जाने लगे थे। बड़े होने पर वह पिता के साथ कानपुर में रहने लगे और अक्षरारंभ के पश्चात् उनसे ही ज्योतिष पढ़ने लगे। किंतु उधर रुचि न होने से पिता ने उन्हें अँगरेजी मदरसे में भरती करा दिया। तब से कई स्कूलों का चक्कर लगाने पर भी वह पिता की लालसा के विपरीत पढ़ाई लिखाई से विरत ही रहे और पिता की मृत्यु के पश्चात् 18-19 वर्ष

Short stories by मुंशी प्रेमचंद

Novel | उपन्यास Short stories | कहानियाँ Nirmala  |  निर्मला Andher  |  अन्धेर Anaath Lark  |  अनाथ लड़की Apani Karni i |  अपनी करनी Amrit  |  अमृत Algojhya  |  अलग्योझा Akhiri Tohfa  |  आख़िरी तोहफ़ा Akhiri Manzi l |  आखिरी मंजिल Aatma-sangeet  |  आत्म-संगीत Aatmaram  |  आत्माराम Aadhar  |  आधार Aalha  |  आल्हा Izzat ka Khoon  |  इज्जत का खून Isteefa  |  इस्तीफा Idgah  |  ईदगाह Ishwariya Nyay  |  ईश्वरीय न्याय Uddhar  |  उद्धार Ek Aanch ki Kasar  |  एक ऑंच की कसर Actress  |  एक्ट्रेस Kaptaan Sahib  |  कप्तान साहब Karmon ka Phal  |  कर्मों का फल Cricket Match  |  क्रिकेट मैच Kavach  |  कवच Qaatil  |  क़ातिल Kutsa  |  कुत्सा Koi dukh na ho to bakri kharid laa  |  कोई दुख न हो तो बकरी खरीद ला Kaushal  |  कौशल़ Khudi  |  खुदी Gairat ki Kataar  |  गैरत की कटार Gulli Danda  |  गुल्‍ली डंडा Ghamand Ka putla  |  घमंड का पुतला Jyoti  |  ज्‍योति Jaadu  |  जादू Jail  |  जेल Juloos  |  जुलूस Jhanki  |  झांकी Thaakur ka Ku

या वो दिन भी दिन | Wo bhi kya din

क्‍या वो दिन भी दिन हैं जिनमें दिन भर जी घबराए क्‍या वो रातें भी रातें हैं जिनमें नींद ना आए । हम भी कैसे दीवाने हैं किन लोगों में बैठे हैं जान पे खेलके जब सच बोलें तब झूठे कहलाए । इतने शोर में दिल से बातें करना है नामुमकिन जाने क्‍या बातें करते हैं आपस में हमसाए ।। हम भी हैं बनवास में लेकिन राम नहीं हैं राही आए अब समझाकर हमको कोई घर ले जाए ।। क्‍या वो दिन भी दिन हैं जिनमें दिन भर जी घबराए ।। राही मासूम रज़ा
खिसक गयी है धूप पैताने से धीरे-धीरे खिसक गयी है धूप। सिरहाने रखे हैं पीले गुलाब। क्या नहीं तुम्हें भी दिखा इनका जोड़- दर्द तुम में भी उभरा? सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन "अज्ञेय" विश्वेश्वराय वरदाय सुरप्रियाय ,लंबोदराय सकलाय जगध्दिताय। नागाननाय श्रुतियग्यविभुसिताय,गौरीसुताय गणनाथ नमो नमस्ते॥

मराठी पुस्तकें (in Pdf Format)

मराठी पुस्तकें   (in Pdf Format)   नोबेल  विजेत्यांच्या  सहवासात   :   By Mrs. Suhasini Chorghade. वसुन्धरेचे  अविष्कार  :  By Prof. S. L. Chorghade.    महा - महात्मा ज्योतिबा  फुले  :   By Adv. Ram Kandge    Pune City its History Growth and Development(758 to 1998 A.D.) :  By Dr.S.G.Mahajan पुणे  शहराचा  द्न्यनाकोश  Vol - I :  By Dr.S.G.Mahajan    द्न्यनेश्वरी  शब्द  ओवी  सूचि :  By Shri P.V.Kulkarni and Shri A.V.Atre    स्वयंसेवी  संस्था :   By Dr. Dhananjay Lokhande    राष्ट्रीय  एकात्मता :   By Prof. Tej Nivalikar     ज्येष्ठ  नागरिक : वास्तव  अणि  समस्या :   By Dr. Navnath Tupe     महिला  सबलीकरण :    By Dr. Vilas Adhav     असंघटित  कामगार :    By Dr. Satish Shirsath  द्न्यनेश्वरी  : English Translation of Stanzas of DNYANESHWARI Saint  Tukaram : Website developed on "Saint Tukaram" Under Guidance of Sant Tukaram Maharaj Chair for Marathi Culture, University of Pune.

अकबर इलाहाबादी

आपका मूल नाम सैयद हुसैन था। उनका जन्म 16 नवंबर, 1846 में इलाहाबाद में हुआ था। अकबर इलाहाबादी विद्रोही स्वभाव के थे। वे रूढ़िवादिता एवं धार्मिक ढोंग के सख्त खिलाफ थे और अपने शेरों में ऐसी प्रवृत्तियों पर तीखा व्यंग्य (तंज) करते थे। उन्होंने 1857 का पहला स्वतंत्रता संग्राम देखा था और फिर गांधीजी के नेतृत्व में छिड़े स्वाधीनता आंदोलन के भी गवाह रहे। उनका असली नाम सैयद हुसैन था। अकबर कॆ उस्ताद् का नाम वहीद था जॊ आतिश कॆ शागिऱ्द् थॆ वह अदालत में एक छोटे मुलाजिम थे, लेकिन बाद में कानून का अच्छा ज्ञान प्राप्त किया और सेशन जज के रूप में रिटायर हुए। इलाहाबाद में ही 9 सितंबर, 1921 को उनकी मृत्यु हो गई।