सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

रचना सूची

कवि / साहित्यकार सूची


अक्षरअनन्य
अखा भगत
अज्ञेय, सच्चिदानंद हीरानन्द वात्स्यायन
अनिल जनविजय
अनूप शर्मा
अनूप सेठी
अप्पय दीक्षित
अमरुशतक
अमीर ख़ुसरो
अमृता प्रीतम
अम्बिकादत्त व्यास
अयोध्याप्रसाद खत्री
अयोध्यासिंह उपाध्याय
अरबिंदो घोष
अर्जुनदास केडिया
अली मुहिब खाँ
अवतार एनगिल
अशोक चक्रधर
अशोक कुमार शुक्ला
अश्वघोष
अष्टछाप कवि
अष्टभुजा शुक्ल

आत्मा रंजन
आंडाल
आनंद बख़्शी
आरसी प्रसाद सिंह
आलम
आलम (रीति काल)
आलोक धन्वा

इब्ने इंशा


उमाकांत मालवीय
उसमान
उदय प्रकाश




ओम प्रकाश 'सारस्वत'
ओम भारद्वाज


ऋषिनाथ

कबीर
कल्हण
कंबन
कन्हैयालाल नंदन
कन्हैयालाल सेठिया
करन कवि
कर्पूर मञ्जरी
कवींद्र
केदारनाथ सिंह
केदारनाथ अग्रवाल
केशव
केशव (हिमाचल प्रदेश)
केशवसुत
कैलाश वाजपेयी
कांता शर्मा
क़ादिर बख्श
कालिदास
कालिदास त्रिवेदी
कासिमशाह
कुतबन
कुमार कृष्ण
कुमार मणिभट्ट
कुमार विश्वास
कुम्भनदास
कुलदीप शर्मा
कुलपति मिश्र
कृपाराम
कृष्ण (कवि)
कृष्णदास
काका हाथरसी
कुंवर नारायण


गंग
गंजन
गदाधर भट्ट
गयाप्रसाद शुक्ल 'सनेही'
ग़ालिब
गिरिजाकुमार माथुर
गुरदीन पांडे
गोपाल प्रसाद व्यास
गोपालदास नीरज
गोविंद शंकर कुरुप
गोविंदस्वामी
गोविन्ददास
ग्वाल कवि
गुरुजाडा अप्पाराव
गुलज़ार

घनानन्द

चंडीदास
चंदन (कवि)
चन्द्र रेखा ढडवाल
चंदबरदाई
चतुर्भुजदास
चिंतामणि त्रिपाठी
चैतन्य महाप्रभु
चंद्रसिंह बिरकाली

छत्रसिंह
छीतस्वामी
छीहल

जगजीवनदास
जगन्नाथदास 'रत्नाकर'
जमाल
जयदेव
जयशंकर प्रसाद
जसवंत सिंह द्वितीय
जानकी वल्लभ शास्त्री
ज्योति खरे

झबेरचंद





तुलसीदास
तुलसी रमण
तोरु दत्त
तोषनिधि
तेज राम शर्मा

थान कवि

दत्त (कवि)
दलपतराम
दलपति राय
दादू दयाल
दूलह
देव
देवकीनन्दन (कवि)
द्विजेन्द्र 'द्विज
दिनेश रघुवंशी
दिनेश कुमार शुक्ल
दुष्यंत कुमार

धर्मदास
ध्रुवदास
धीरेन्द्र वर्मा

नंददास
नंदराम
नकछेदी तिवारी
नरेश मेहता
नवनीत शर्मा
नरोत्तमदास
नागार्जुन
नाभादास
नामवर सिंह
नूर मुहम्मद
नेवाज

पद्माकर
परमानंद दास
पुष्पदंत
पुहकर कवि
प्रकाश बादल
प्रतापसाहि
प्राणचंद चौहान
प्रेम भारद्वाज
प्रसून जोशी
प्रताप नारायण मिश्र

फ़िराक़ गोरखपुरी
फ़िरदौस ख़ान

बंकिम चन्द्र चट्टोपाध्याय
बंसीधर
बनवारी
बनारसी दास
बलभद्र मिश्र
बलदेव वंशी
बाणभट्ट
बालकृष्ण शर्मा नवीन
बिहारी लाल
बीर
बेनी
बेनी प्रवीन
बेनी बंदीजन
बैताल
बैरीसाल
ब्रह्मदत्त
बाबू कृष्णचन्द्र

भगवत रावत
भगवतीचरण वर्मा
भवानी प्रसाद मिश्र
भवभूति
भान कवि
भारवि
भास
भिखारी दास
भूपति राज गुरुदत्त सिंह
भूषण

मंखक
मंझन
मंडन
मतिराम
मनीराम मिश्र
मनोहर
मलिक मुहम्मद जायसी
मलयज
मलूकदास
महादेवी वर्मा
महापात्र नरहरि बंदीजन
महाराज रामसिंह
महाराज विश्वनाथ सिंह
माखन लाल चतुर्वेदी
माघ कवि
मीर
मीरां
मुक्तिबोध गजानन माधव
मैथिलीशरण गुप्त
मोहम्मद इक़बाल
मोहन 'साहिल'
माइकल मधुसूदन दत्त

यशोदानंदन

रंगलाल बनर्जी
रघुनाथ (कवि)
रतन (कवि)
रसखान
रसखान व्यक्तित्व और कृतित्व
रसनिधि
रसलीन
रसिक गोविंद
रसिक सुमति
रवीन्द्र प्रभात
रहीम
राजशेखर
राम (कवि)
रामकुमार वर्मा
रामधारी सिंह दिनकर
रामनरेश त्रिपाठी
रामविलास शर्मा
राय कृष्णदास
रूपसाहि
रेखा
रैदास
रवीन्द्र प्रभात
राजेश जोशी

लल्लू लालजी
लाल कवि
लालच दास
लालचंद
लालधर त्रिपाठी 'प्रवासी'

विद्वशालभंजिका
विशाखदत्त
वृंद
व्यास जी
विजयदेव नारायण साही
वियोगी हरि

शरद जोशी
शमशेर बहादुर सिंह
श्यामलाल गुप्त 'पार्षद'
श्यामनारायण पांडेय
शंभुनाथ मिश्र
शंकरदेव
शिवसहाय दास
शिवमंगल सिंह सुमन
शिवदीन राम जोशी
शूद्रक
शेख नबी
श्र
श्रीधर
श्रीपति (कवि)
श्रीभट्ट
श्रीहर्ष
श्रीकांत वर्मा


संत ज्ञानेश्वर
सबलसिंह चौहान
सरोजिनी नायडू
सरहपा
सुंदर दास
सुखदेव मिश्र
सुन्दरदास खण्डेलवाल
सुभद्रा कुमारी चौहान
सुभाष रस्तोगी
सुमित्रानंदन पंत
सुदर्शन वशिष्ठ
सुब्रह्मण्यम भारती
सूरति मिश्र
सूरदास
सूरदास मदनमोहन
सरोज परमार
सूर्यकान्त त्रिपाठी निराला
सेनापति
सैय्यद मुबारक़ अली बिलग्रामी
सोमनाथ माथुर
सोम ठाकुर
स्वयंभू देव
स्वामी अग्रदास

हरनाथ शर्मा
हरिनाथ
हरिवंश राय बच्चन
हरिषेण
हर्षवर्धन
हृदयराम
होलराय
हरिकृष्ण प्रसाद गुप्ता अग्रहरि
त्र
त्रिलोक सिंह ठकुरेला
त्रिलोचन शास्त्री
ज्ञ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हिन्दी की किताबे | Read hindi stories online

Image via Wikipediaहिन्दी की किताबेपुरानी पोस्ट : क्लिक करेंहिन्दी की किताबे

माँ - कहानी (प्रेमचंद)ईदगाह - कहानी (प्रेमचंद)अलग्योझा - कहानी (प्रेमचंद)इस्तीफा - कहानी (प्रेमचंद)कप्तान साहब -कहानी (प्रेमचंद)प्रायश्चित - कहानी (प्रेमचंद)बैंक का दिवाला - कहानी (प्रेमचंद)शान्ति - कहानी (प्रेमचंद)समर-यात्रा - कहानी (प्रेमचंद)मैकू - कहानी (प्रेमचंद)झाँकी - कहानी (प्रेमचंद)पूस की रात -कहानी (प्रेमचंद)ठाकुर का कुआँ -कहानी (प्रेमचंद)स्वामिनी - कहानी (प्रेमचंद)नाग-पूजा -कहानी (प्रेमचंद)शंखनाद - कहानी (प्रेमचंद)दुर्गा का मन्दिर - कहानी (प्रेमचंद)आत्माराम - कहानी (प्रेमचंद)पंच परमेश्वर - कहानी (प्रेमचंद)बड़े घर की बेटी - कहानी (प्रेमचंद)चतुर नाई (बाल-कहानी)रत्ना भाई (बाल-कहानी)कंजूस सेठ (कहानी)मुर्ख बहु (बाल-कहानी)आनंदी कौआ (बाल-कहानी)मुर्ख कौआ (बाल-कहानी)तिवारी जी (कहानी)नकलची नाई (कहानी)करामाती तुम्बी (बाल-कहानी)बोहरा और बोहरी (बाल-कहानी)चतुर खरगोश - बाल-कहानीकुनबी और कुनबिन- कहानीचोर और राजा (कहानी)कौआ और मैना (बाल-कहानी)गिलहरीबाई (बाल-कहानी)राजा और चिड़िया (बाल-कहानी)टिड्डा जोशी (बाल-कहानी)मगर…

स्व. पंडित प्रताप नारायण मिश्र

स्व. पंडित प्रताप नारायण मिश्र
प्रतापनारायण मिश्र (सितंबर, 1856 - जुलाई, 1894) भारतेंन्दु मंडल के प्रमुख लेखक, कवि और पत्रकार थे। पंडित जी का जन्म उन्नाव जिले के अंतर्गत बैजे गाँव निवासी, कात्यायन गोत्रीय, कान्यकुब्ज ब्राहृमण पं. संकटादीन के घर आश्विनी कृष्ण नौमी को संवत 1913 वि. में हुआ था।वह भारतेंदु निर्मित एवं प्रेरित हिंदी लेखकों की सेना के महारथी, उनके आदर्शो के अनुगामी और आधुनिक हिंदी भाषा तथा साहित्य के निर्माणक्रम में उनके सहयोगी थे। भारतेंदु पर उनकी अनन्य श्रद्धा थी, वह अपने को उनका शिष्य कहते तथा देवता की भाँति उनका स्मरण करते थे। भारतेंदु जैसी रचनाशैली, विषयवस्तु और भाषागत विशेषताओं के कारण मिश्र जी "प्रतिभारतेंदु" अथवा "द्वितीयचंद्र" कहे जाने लगे थे।
बड़े होने पर वह पिता के साथ कानपुर में रहने लगे और अक्षरारंभ के पश्चात् उनसे ही ज्योतिष पढ़ने लगे। किंतु उधर रुचि न होने से पिता ने उन्हें अँगरेजी मदरसे में भरती करा दिया। तब से कई स्कूलों का चक्कर लगाने पर भी वह पिता की लालसा के विपरीत पढ़ाई लिखाई से विरत ही रहे और पिता की मृत्यु के पश्चात् 18-19 वर्ष की…

पदुमलाल पन्नालाल बख्शी

डॉ॰ पदुमलाल पुन्नालाल बख्शी (27 मई 1894-28 दिसम्बर 1971) जिन्हें ‘मास्टरजी’ के नाम से भी जाना जाता है, हिंदी के निबंधकार थे। वे राजनंदगांव की हिंदी त्रिवेणी की तीन धाराओं में से एक हैं। राजनांदगांव के त्रिवेणी परिसर में इनके सम्मान में मूर्तियों की स्थापना की गई है।
पदुमलाल पुन्नालाल बख्शी का जन्म राजनांदगांव के एक छोटे से कस्‍बे खैरागढ़ में 27 मई 1894 में हुआ। उनके पिता पुन्नालाल बख्शी खैरागढ़ के प्रतिष्ठित परिवार से थे। उनकी प्राथमिक शिक्षा म.प्र. के प्रथम मुख्‍यमंत्री पं॰ रविशंकर शुक्‍ल जैसे मनीषी गुरूओं के सानिध्‍य में विक्‍टोरिया हाई स्‍कूल, खैरागढ में हुई थी। प्रारंभ से ही प्रखर पदुमलाल पन्‍नालाल बख्‍शी की प्रतिभा को खैरागढ के ही इतिहासकार लाल प्रद्युम्‍न सिंह जी ने समझा एवं बख्‍शी जी को साहित्‍य सृजन के लिए प्रोत्‍साहित किया और यहीं से साहित्‍य की अविरल धारा बह निकली। प्रतिभावान बख्‍शी जी ने बनारस हिन्‍दू कॉलेज से बी.ए. किया और एल.एल.बी. करने लगे किन्‍तु वे साहित्‍य के प्रति अपनी प्रतिबद्धता एवं समयाभाव के कारण एल.एल.बी. पूरा नहीं कर पाए।

यह 1903 का समय था जब वे घर के साहित्यि…