सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

Read Shrimad Bhagavad Gita Books Online

DOWNLOAD in HINDI

पदुमलाल पन्नालाल बख्शी

डॉ॰ पदुमलाल पुन्नालाल बख्शी (27 मई 1894-28 दिसम्बर 1971) जिन्हें ‘मास्टरजी’ के नाम से भी जाना जाता है, हिंदी के निबंधकार थे। वे राजनंदगांव की हिंदी त्रिवेणी की तीन धाराओं में से एक हैं। राजनांदगांव के त्रिवेणी परिसर में इनके सम्मान में मूर्तियों की स्थापना की गई है। पदुमलाल पुन्नालाल बख्शी का जन्म राजनांदगांव के एक छोटे से कस्‍बे खैरागढ़ में 27 मई 1894 में हुआ। उनके पिता पुन्नालाल बख्शी खैरागढ़ के प्रतिष्ठित परिवार से थे। उनकी प्राथमिक शिक्षा म.प्र. के प्रथम मुख्‍यमंत्री पं॰ रविशंकर शुक्‍ल जैसे मनीषी गुरूओं के सानिध्‍य में विक्‍टोरिया हाई स्‍कूल, खैरागढ में हुई थी। प्रारंभ से ही प्रखर पदुमलाल पन्‍नालाल बख्‍शी की प्रतिभा को खैरागढ के ही इतिहासकार लाल प्रद्युम्‍न सिंह जी ने समझा एवं बख्‍शी जी को साहित्‍य सृजन के लिए प्रोत्‍साहित किया और यहीं से साहित्‍य की अविरल धारा बह निकली। प्रतिभावान बख्‍शी जी ने बनारस हिन्‍दू कॉलेज से बी.ए. किया और एल.एल.बी. करने लगे किन्‍तु वे साहित्‍य के प्रति अपनी प्रतिबद्धता एवं समयाभाव के कारण एल.एल.बी. पूरा नहीं कर पाए। यह 1903 का समय था जब वे घर के साहित्

हिन्दी / उर्दू पुस्तकें

रोटी का राग / श्रीमन्नारायण अग्रवाल नूरजहाँ / गुरुभक्त सिंह (महाकाव्य) श्री राम महिमा / रघुवीर सहाय श्रीवास्तव सुन्दरकाण्ड भावानुवाद / लावण्या दीपक शाह बर्फ़ की रेत / सरफ़राज़ अहमद आसी लोक उक्ति में कविता / कविता रावत मंदाकिनी / अभिषेक नागर मेरा अक़्स / क्षेत्र 'प्रेम' मुखिया कंगाल होता जनतंत्र / अनिल कुमार शर्मा मुट्ठी भर धूप / अल्पना नागर वक़्त वक़्त की बात / जयति जैन नूतन आंखन देखी / दुर्गाप्रसाद अग्रवाल अभिनेत्री की आत्मकथा / अर्जुन जोशी मेरी तिब्बत यात्रा / राहुल सांकृत्यायन