सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

हिन्दी की किताबे | Read hindi stories online

Image via Wikipedia हिन्दी की किताबे पुरानी पोस्ट : क्लिक करें हिन्दी की किताबे माँ - कहानी (प्रेमचंद) ईदगाह - कहानी (प्रेमचंद) अलग्योझा - कहानी (प्रेमचंद) इस्तीफा - कहानी (प्रेमचंद) कप्तान साहब -कहानी (प्रेमचंद) प्रायश्चित - कहानी (प्रेमचंद) बैंक का दिवाला - कहानी (प्रेमचंद) शान्ति - कहानी (प्रेमचंद) समर-यात्रा - कहानी (प्रेमचंद) मैकू - कहानी (प्रेमचंद) झाँकी - कहानी (प्रेमचंद) पूस की रात -कहानी (प्रेमचंद) ठाकुर का कुआँ -कहानी (प्रेमचंद) स्वामिनी - कहानी (प्रेमचंद) नाग-पूजा -कहानी (प्रेमचंद) शंखनाद - कहानी (प्रेमचंद) दुर्गा का मन्दिर - कहानी (प्रेमचंद) आत्माराम - कहानी (प्रेमचंद) पंच परमेश्वर - कहानी (प्रेमचंद) बड़े घर की बेटी - कहानी (प्रेमचंद) चतुर नाई (बाल-कहानी) रत्ना भाई (बाल-कहानी) कंजूस सेठ (कहानी) मुर्ख बहु (बाल-कहानी) आनंदी कौआ (बाल-कहानी) मुर्ख कौआ (बाल-कहानी) तिवारी जी (कहानी) नकलची नाई (कहानी) करामाती तुम्बी (बाल-कहानी) बोहरा और बोहरी (बाल-कहानी) चतुर खरगोश - बाल-कहानी कुनबी और कुनबिन- कहानी चोर और राजा (कहानी) कौआ और मैना (बाल-कहानी) गिलहरीबाई (बाल-कहा
Image via Wikipedia स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनयें

हैप्पी रक्षाबंधन | Happy Rakshabandhan

Image by Vishhh via Flickr रक्षाबंधन की हार्दिक शुभकामनायें

चिट्ठाजगत अधिकृत कड़ी

चिट्ठाजगत अधिकृत कड़ी

माखनलाल चतुर्वेदी

Makhanlal Chaturvedi माखनलाल चतुर्वेदी माखनलाल चतुर्वेदी (४ अप्रैल १८८९-३० जनवरी १९६८) भारत के ख्यातिप्राप्त कवि, लेखक और पत्रकार थे जिनकी रचनाएँ अत्यंत लोकप्रिय हुईं। सरल भाषा और ओजपूर्ण भावनाओं के वे अनूठे हिंदी रचनाकार थे। प्रभा और कर्मवीर जैसे प्रतिष्ठत पत्रों के संपादक के रूप में उन्होंने ब्रिटिश शासन के खिलाफ जोरदार प्रचार किया और नई पीढी का आह्वान किया कि वह गुलामी की जंज़ीरों को तोड़ कर बाहर आए। इसके लिये उन्हें अनेक बार ब्रिटिश साम्राज्य का कोपभाजन बनना पड़ा।[१] वे सच्चे देशप्रमी थे और १९२१-२२ के असहयोग आंदोलन में सक्रिय रूप से भाग लेते हुए जेल भी गए। आपकी कविताओं में देशप्रेम के साथ साथ प्रकृति और प्रेम का भी सुंदर चित्रण हुआ है। नोट: 16-17 जनवरी 1965 को मध्यप्रदेश शासन की ओर से खंडवा में 'एक भारतीय आत्मा' माखनलाल चतुर्वेदी के नागरिक सम्मान समारोह का आयोजन किया गया।

जयशंकर प्रसाद: जीवन परिचय

जयशंकर प्रसाद (१८८९-१९३७) जीवन परिचय महाकवि के रूप में सुविख्यात जयशंकर प्रसाद (१८८९-१९३७) हिंदी साहित्य में एक विशिष्ट स्थान रखते हैं। छायावादी युग के चार प्रमुख स्तंभों में से एक जयशंकर प्रसाद का जन्म ३० जनवरी १८९० को प्रसिद्ध हिंदू नगरी वाराणसी में एक व्यासायिक परिवार में हुआ था ।आपके पिता देवी प्रसाद तंबाकू और सुंघनी का व्यवसाय करते थे और वाराणसी में इनका परिवार सुंघनी साहू के नाम से प्रसिद्ध था। आपकी प्रारम्भिक् शिक्षा आठवीं तक हुई किंतु घर पर संस्कृत, अंग्रेज़ी, पालि, प्राकृत भाषाओं का गहन अध्ययन किया। इसके बाद भारतीय इतिहास, संस्कृति, दर्शन, साहित्य और पुराण कथाओं का एकनिष्ठ स्वाध्याय कर इन बिषयों पर एकाधिकार प्राप्त किया। एक महान लेखक के रूप में प्रख्यात जयशंकर प्रसाद के तितली , कंकाल और इरावती जैसे उपन्यास और आकाशदीप , मधुआ और पुरस्कार जैसी कहानियाँ उनके गद्य लेखन की अपूर्व ऊँचाइयाँ हैं। उनकी कहानियां कविता समान रहती है। काव्य साहित्य में कामायनी बेजोड कृति है । । विविध रचनाओं के माध्यम से मानवीय करूणा और भारतीय मनीषा के अनेकानेक गौरवपूर्ण पक्षों का उद्घाटन करन

हिन्दी की किताबे

फ्री डाउनलोड हिन्दी ई-बुक्स बंकिमचंद्र-आनंदमठ अम्रिताप्रिताम्किकावितायें एक्गाधेकिवापसी बी कृष्ण चंदर गीतांजलि बी रबिन्द्रनाथ टगोर ग़लिब गोदान बी मुंशी प्रेमचंद मधुशाला बी हरिवंश्रई बच्चन हरिशंकर पारसी की व्यंग्य रचनाएँ हरिशंकर पारसी की व्यंग्य अच्नयेन२ हरिवंश्रय बच्चन की प्रतिनिधि रचनाएँ कबीर के दोहे कामायनी बी जयशंकर प्रसाद निर्मला बी मुंशी प्रेमचंद प्रेमचंद साहित्य रहीम के दोहे शरद जोशी के व्यंग्य लेख शरतचंद्र - देवदास गुलज़ार की त्रिवेनियाँ गोल्डन वोर्ड्स ऑफ़ रबिन्द्रनाथ टगोर पिछली पोस्ट http://hindi.kuldeepsingh.org/2008/02/books-in-hindi.html सोर्स: http://hindiebooks.googlepages.com/