Posts

Showing posts with the label हिन्दी

Short stories by मुंशी प्रेमचंद

Novel | उपन्यास Short stories | कहानियाँ

Nirmala | निर्मलाAndher | अन्धेरAnaath Lark | अनाथ लड़कीApani Karnii | अपनी करनीAmrit | अमृतAlgojhya | अलग्योझाAkhiri Tohfa | आख़िरी तोहफ़ाAkhiri Manzil | आखिरी मंजिलAatma-sangeet | आत्म-संगीतAatmaram | आत्मारामAadhar | आधारAalha | आल्हाIzzat ka Khoon | इज्जत का खूनIsteefa | इस्तीफाIdgah | ईदगाहIshwariya Nyay | ईश्वरीय न्यायUddhar | उद्धारEk Aanch ki Kasar | एक ऑंच की कसरActress | एक्ट्रेसKaptaan Sahib | कप्तान साहबKarmon ka Phal | कर्मों का फलCricket Match | क्रिकेट मैचKavach | कवचQaatil | क़ातिलKutsa | कुत्साKoi dukh na ho to bakri kharid laa | कोई दुख न हो तो बकरी खरीद लाKaushal | कौशल़Khudi | खुदीGairat ki Kataar | गैरत की कटारGulli Danda | गुल्‍ली डंडाGhamand Ka putla | घमंड का पुतलाJyoti | ज्‍योतिJaadu | जादूJail | जेलJuloos | जुलूसJhanki | झांकीThaakur ka Kuan | ठाकुर का कुआंTaintar |

Short stories by मुंशी प्रेमचंद

Image

हिन्दी की किताबे

दिन बसन्त के

दिन बसन्त के राजा-रानी-से तुम दिन बसन्त के आए हो हिम के दिन बीतते दिन बसन्त के पात पुराने पीले झरते हैं झर-झर कर नई कोंपलों ने शृंगार किया है जी भर फूल चन्द्रमा का झुक आया है धरती पर अभी-अभी देखा मैंने वन को हर्ष भर कलियाँ लेते फलते, फूलते झुक-झुककर लहरों पर झूमते आए हो हिम के दिन बीतते दिन बसन्त के ----  ठाकुरप्रसाद सिंह

मैया मैं नहीं माखन खायौ

~1~मैया मैं नहीं माखन खायौ ॥
ख्याल परै ये सखा सबै मिलि, मेरैं मुख लपटायौ ॥
देखि तुही सींके पर भाजन, ऊँचैं धरि लटकायौ ॥
हौं जु कहत नान्हे कर अपनैं मैं कैसैं करि पायौ ॥
मुख दधि पोंछि, बुद्धि इक कीन्हीं, दोना पीठि दुरायौ ॥
डारि साँटि, मुसुकाइ जसोदा, स्यामहि कंठ लगायौ ॥
बाल-बिनोद-मोद मन मोह्यौ, भक्ति -प्रताप दिखायौ ॥
सूरदास जसुमति कौ यह सुख, सिव बिरंचि नहिं पायौ ॥ ~2~मैया, कबहिं बढ़ैगी चोटी
किती बार मोहि दूध पियत भइ, यह अजहूँ है छोटी ॥
तू जो कहति बल की बेनी ज्यौं, ह्वै है लाँबी-मोटी ।
काढ़त-गुहत-न्हवावत जैहै नागिनि-सी भुइँ लोटी ॥
काँचौ दूध पियावति पचि-पचि, देति न माखन-रोटी ।
सूरज चिरजीवौ दोउ भैया, हरि-हलधर की जोटी ॥

पिछली रात को ....

इंतजार जैसे उसका इमान हो
कुछ एसे ही वो इंतजार करता रहा
उस लहर का, जो छोड़ गयी थी
कल रात कुछ सीपिया तो कुछ मोती जैसे कदमो के निशां

लहरों का क्या है ,
आती है ... चली जाती है
पर उस किनारे का क्या
जो देता है उतना ही प्यार उतना ही दुलार
हर आने वाली उस लहर को
जिसे आख़िर मे चले जाना है

पल भर का साथ था,
फिर मिलन इंतजार
हर लौटती उस लहर को,
जो छोड़ आई थी अपने कदम-ए-निशां
उस किनारे पर, पिछली रात को ….

KS

K. Singh © 2008. All rights are reserved. No part of this Article, including text and photographs, may be copied, reproduced or transmitted without the express permission of the author.
Tags: , , ,

कुछ हिन्दी की पुस्तक

आयिए कुछ हिन्दी की पुस्तके पढे :

Sno
TitleAuthorDownload1NirmalaPremchanddoccoverzip2Saphalta Ki KunjiYashpal Jaindoccoverzip3Narak Ka MargPrem Chanddoccoverzip4Mundak DivyamritShivananddoccoverzip5Tanav se MuktiShivananddoccoverzip6Bade BabuPremchanddoccoverzip7Vidusi Vrijrani And Other StoriesPremchanddoccoverzip8Eentt ki DiwarCh. Shivnath Singh Shadilyadoccoverzip9Mandir Aur MasjidPremchanddoccoverzip10PremaPremchanddoccoverzip11