सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

चिट्ठाजगत अधिकृत कड़ी

चिट्ठाजगत अधिकृत कड़ी

माखनलाल चतुर्वेदी

Makhanlal Chaturvedi माखनलाल चतुर्वेदी माखनलाल चतुर्वेदी (४ अप्रैल १८८९-३० जनवरी १९६८) भारत के ख्यातिप्राप्त कवि, लेखक और पत्रकार थे जिनकी रचनाएँ अत्यंत लोकप्रिय हुईं। सरल भाषा और ओजपूर्ण भावनाओं के वे अनूठे हिंदी रचनाकार थे। प्रभा और कर्मवीर जैसे प्रतिष्ठत पत्रों के संपादक के रूप में उन्होंने ब्रिटिश शासन के खिलाफ जोरदार प्रचार किया और नई पीढी का आह्वान किया कि वह गुलामी की जंज़ीरों को तोड़ कर बाहर आए। इसके लिये उन्हें अनेक बार ब्रिटिश साम्राज्य का कोपभाजन बनना पड़ा।[१] वे सच्चे देशप्रमी थे और १९२१-२२ के असहयोग आंदोलन में सक्रिय रूप से भाग लेते हुए जेल भी गए। आपकी कविताओं में देशप्रेम के साथ साथ प्रकृति और प्रेम का भी सुंदर चित्रण हुआ है। नोट: 16-17 जनवरी 1965 को मध्यप्रदेश शासन की ओर से खंडवा में 'एक भारतीय आत्मा' माखनलाल चतुर्वेदी के नागरिक सम्मान समारोह का आयोजन किया गया।

जयशंकर प्रसाद: जीवन परिचय

जयशंकर प्रसाद (१८८९-१९३७) जीवन परिचय महाकवि के रूप में सुविख्यात जयशंकर प्रसाद (१८८९-१९३७) हिंदी साहित्य में एक विशिष्ट स्थान रखते हैं। छायावादी युग के चार प्रमुख स्तंभों में से एक जयशंकर प्रसाद का जन्म ३० जनवरी १८९० को प्रसिद्ध हिंदू नगरी वाराणसी में एक व्यासायिक परिवार में हुआ था ।आपके पिता देवी प्रसाद तंबाकू और सुंघनी का व्यवसाय करते थे और वाराणसी में इनका परिवार सुंघनी साहू के नाम से प्रसिद्ध था। आपकी प्रारम्भिक् शिक्षा आठवीं तक हुई किंतु घर पर संस्कृत, अंग्रेज़ी, पालि, प्राकृत भाषाओं का गहन अध्ययन किया। इसके बाद भारतीय इतिहास, संस्कृति, दर्शन, साहित्य और पुराण कथाओं का एकनिष्ठ स्वाध्याय कर इन बिषयों पर एकाधिकार प्राप्त किया। एक महान लेखक के रूप में प्रख्यात जयशंकर प्रसाद के तितली , कंकाल और इरावती जैसे उपन्यास और आकाशदीप , मधुआ और पुरस्कार जैसी कहानियाँ उनके गद्य लेखन की अपूर्व ऊँचाइयाँ हैं। उनकी कहानियां कविता समान रहती है। काव्य साहित्य में कामायनी बेजोड कृति है । । विविध रचनाओं के माध्यम से मानवीय करूणा और भारतीय मनीषा के अनेकानेक गौरवपूर्ण पक्षों का उद्घाटन करन

हिन्दी की किताबे

फ्री डाउनलोड हिन्दी ई-बुक्स बंकिमचंद्र-आनंदमठ अम्रिताप्रिताम्किकावितायें एक्गाधेकिवापसी बी कृष्ण चंदर गीतांजलि बी रबिन्द्रनाथ टगोर ग़लिब गोदान बी मुंशी प्रेमचंद मधुशाला बी हरिवंश्रई बच्चन हरिशंकर पारसी की व्यंग्य रचनाएँ हरिशंकर पारसी की व्यंग्य अच्नयेन२ हरिवंश्रय बच्चन की प्रतिनिधि रचनाएँ कबीर के दोहे कामायनी बी जयशंकर प्रसाद निर्मला बी मुंशी प्रेमचंद प्रेमचंद साहित्य रहीम के दोहे शरद जोशी के व्यंग्य लेख शरतचंद्र - देवदास गुलज़ार की त्रिवेनियाँ गोल्डन वोर्ड्स ऑफ़ रबिन्द्रनाथ टगोर पिछली पोस्ट http://hindi.kuldeepsingh.org/2008/02/books-in-hindi.html सोर्स: http://hindiebooks.googlepages.com/

शिक्षक दिवस / गुरु दिवस /Teacher's Day

शिक्षक दिवस / गुरु दिवस /Teacher's Day गुरुर्ब्रह्मा, गुरुर्विष्णु, गुरुर्देवो महेश्वरः। गुरुर्साक्षात्‌ परमब्रह्म, तस्मै श्री गुरुवैनमः॥ गुरु, शिक्षक, आचार्य, उस्ताद, अध्यापक या टीचर ये सभी शब्द एक ऐसे व्यक्ति को व्याख्यातित करते है जो हमें सिखाता है, ज्ञान देता है। इसी महामानव को धन्यवाद देने को, अपनी कृतज्ञता दर्शाने को एक दिन है जो की शिक्षक दिवस के रूप में जाना जाता है। केवल धन दे कर शिक्षा हासिल नहीं होती। अपने गुरु के प्रति आदर, सम्मान और विश्वास , ज्ञानार्जन में बहुत सहायक होता है। कई साडी दुविधाये केवल एक विश्वास की 'मेरे गुरु ने सही बताया है' से मिट जाती है। ५ सितम्बर, भारत के द्वितीय राष्ट्रपति , शैक्षिक दार्शनिक डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन जन्मदिवस, शिक्षक दिवस के रूप में सम्पूर्ण भारतवर्ष में मनाया जाता है। ऐसा कह गया है की बिना गुरु के ज्ञान प्राप्त नहीं होता, " गुरु बिनु ज्ञान कहाँ जग माही "। हिंदू पंचांग गुरु पूर्णिमा को गुरु दिवस स्वीकार करते है। विश्व के विभिन्न देश अलग अलग तारीखों में शिक्षक दिवस मानते है। बहुत

चार कौए

बहुत नहीं थे सिर्फ चार कौए थे काले उन्होंने यह तय किया कि सारे उड़ने वाले उनके ढंग से उड़ें , रुकें , खायें और गायें वे जिसको त्योहार कहें सब उसे मनायें । कभी-कभी जादू हो जाता है दुनिया में दुनिया भर के गुण दिखते हैं औगुनिया में ये औगुनिए चार बड़े सरताज हो गये इनके नौकर चील , गरूड़ और बाज हो गये । हंस मोर चातक गौरैयें किस गिनती में हाथ बांधकर खडे़ हो गए सब विनती में हुक्म हुआ , चातक पंछी रट नहीं लगायें पिऊ-पिऊ को छोड़ें कौए-कौए गायॆं । बीस तरह के काम दे दिए गौरैयों को खाना-पीना मौज उड़ाना छुटभैयों को कौओं की ऐसी बन आयी पांचों घी में बड़े-बड़े मनसूबे आये उनके जी में उड़ने तक के नियम बदल कर ऐसे ढाले उड़ने वाले सिर्फ रह गये बैठे ठाले । आगे क्या कुछ हुआ सुनाना बहुत कठिन है यह दिन कवि का नहीं चार कौओं का दिन है उत्सुकता जग जाये तो मेरे घर आ जाना लंबा किस्सा थोड़े में किस तरह सुनाना ----भवानीप्रसाद मिश्र आज का दोहा रहिमन प्रीत न कीजिए , जस खीरा ने कीन । ऊपर से तो दिल मिला , भीतर फांके तीन ॥