सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

मुंशी प्रेमचंद लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

कहानी (प्रेमचंद)

माँ - कहानी (प्रेमचंद) आज बन्दी छूटकर घर आ रहा है। करुणा ने एक दिन पहले ही घर लीप-पोत रखा था। इन तीन वर्षो में उसने कठिन तपस्या करके जो दस-पॉँच रूपये जमा कर रखे थे, वह सब पति के सत्कार और स्वागत की तैयारियों में खर्च कर दिए। पति के लिए धोतियों का नया जोड़ा लाई थी, नए कुरते बनवाए थे, बच्चे के लिए नए कोट और टोपी की आयोजना की थी। बार-बार बच्चे को गले लगाती ओर प्रसन्न होती। अगर इस बच्चे ने सूर्य की भॉँति उदय होकर उसके अंधेरे जीवन को प्रदीप्त न कर दिया होता, तो कदाचित् ठोकरों ने उसके जीवन का अन्त कर दिया होता। पति के कारावास-दण्ड के तीन ही महीने बाद इस बालक का जन्म हुआ। उसी का मुँह देख-देखकर करूणा ने यह तीन साल काट दिए थे। वह सोचती—जब मैं बालक को उनके सामने ले जाऊँगी, तो वह कितने प्रसन्न होंगे! उसे देखकर पहले तो चकित हो जाऍंगे, फिर गोद में उठा लेंगे और कहेंगे—करूणा, तुमने यह रत्न देकर मुझे निहाल कर दिया। कैद के सारे कष्ट बालक की तोतली बातों में भूल जाऍंगे, उनकी एक सरल, पवित्र, मोहक दृष्टि दृदय की सारी व्यवस्थाओं को धो डालेगी। इस कल्पना का आन्नद लेकर वह फूली न समाती थी। वह सोच रही थी—आ

Tehreer...Munshi Premchand Ki | तहरीर मुंशी प्रेमचंद की

मुंशी प्रेमचंद : जन्म- 31 जुलाई, 1880 - मृत्यु- 8 अक्टूबर, 1936 प्रेमचंद एक क्रांतिकारी रचनाकार थे, उन्होंने न केवल देशभक्ति बल्कि समाज में व्याप्त अनेक कुरीतियों को देखा और उनको कहानी के माध्यम से पहली बार लोगों के समक्ष रखा। उन्होंने उस समय के समाज की जो भी समस्याएँ थीं उन सभी को चित्रित करने की शुरुआत कर दी थी। उसमें दलित भी आते हैं, नारी भी आती हैं। ये सभी विषय आगे चलकर हिन्दी साहित्य के बड़े विमर्श बने। प्रेमचंद हिन्दी सिनेमा के सबसे अधिक लोकप्रिय साहित्यकारों में से हैं। सत्यजित राय ने उनकी दो कहानियों पर यादगार फ़िल्में बनाईं। १९७७ में शतरंज के खिलाड़ी और १९८१ में सद्गति। उनके देहांत के दो वर्षों बाद के सुब्रमण्यम ने १९३८ में सेवासदन उपन्यास पर फ़िल्म बनाई जिसमें सुब्बालक्ष्मी ने मुख्य भूमिका निभाई थी। १९७७ में मृणाल सेन ने प्रेमचंद की कहानी कफ़न पर आधारित ओका ऊरी कथा नाम से एक तेलुगू फ़िल्म बनाई जिसको सर्वश्रेष्ठ तेलुगू फ़िल्म का राष्ट्रीय पुरस्कार भी मिला। १९६३ में गोदान और १९६६ में गबन उपन्यास पर लोकप्रिय फ़िल्में बनीं। १९८० में उनके उपन्यास पर बना टीवी धारावाहिक निर्मला भ

Munshi Premchand - Mansarovar | लघु कथाएँ

लघु कथाएँ Short stories by katha samrat Munsi Premchand - eight volume collection Vol 1 (1.4 M) PDF Vol 2 (1.5 M) PDF Vol 3 (1.7 M) PDF Vol 4 (1.7 M) PDF Vol 5 (1.7 M) PDF Vol6 (1.8 M) PDF Vol 7 (995.2 K) PDF Vol 8 (1.6 M) PDF

Short stories by मुंशी प्रेमचंद

Novel | उपन्यास Short stories | कहानियाँ Nirmala  |  निर्मला Andher  |  अन्धेर Anaath Lark  |  अनाथ लड़की Apani Karni i |  अपनी करनी Amrit  |  अमृत Algojhya  |  अलग्योझा Akhiri Tohfa  |  आख़िरी तोहफ़ा Akhiri Manzi l |  आखिरी मंजिल Aatma-sangeet  |  आत्म-संगीत Aatmaram  |  आत्माराम Aadhar  |  आधार Aalha  |  आल्हा Izzat ka Khoon  |  इज्जत का खून Isteefa  |  इस्तीफा Idgah  |  ईदगाह Ishwariya Nyay  |  ईश्वरीय न्याय Uddhar  |  उद्धार Ek Aanch ki Kasar  |  एक ऑंच की कसर Actress  |  एक्ट्रेस Kaptaan Sahib  |  कप्तान साहब Karmon ka Phal  |  कर्मों का फल Cricket Match  |  क्रिकेट मैच Kavach  |  कवच Qaatil  |  क़ातिल Kutsa  |  कुत्सा Koi dukh na ho to bakri kharid laa  |  कोई दुख न हो तो बकरी खरीद ला Kaushal  |  कौशल़ Khudi  |  खुदी Gairat ki Kataar  |  गैरत की कटार Gulli Danda  |  गुल्‍ली डंडा Ghamand Ka putla  |  घमंड का पुतला Jyoti  |  ज्‍योति Jaadu  |  जादू Jail  |  जेल Juloos  |  जुलूस Jhanki  |  झांकी Thaakur ka Ku