वंदना के इन स्वरों में एक स्वर मेरा मिला लो | Vandana

वंदना के इन स्वरों में एक स्वर मेरा मिला लो।
राग में जब मत्त झूलो
तो कभी माँ को न भूलो,
अर्चना के रत्नकण में एक कण मेरा मिला लो।
जब हृदय का तार बोले,
शृंखला के बंद खोले;
हों जहाँ बलि शीश अगणित, एक शिर मेरा मिला लो।
- सोहनलाल द्विवेदी
-

Popular posts from this blog

हिन्दी की किताबे | Read hindi stories online

वीर तुम बढ़े चलो | Veer Tum Badhe Chalo

स्व. पंडित प्रताप नारायण मिश्र