Jab Jab ye saavan aaya ......



जब जब ये सावन आया है।
अँखियाँ छम छम सी बरस गई।
तेरी यादों की बदली से।
मेरी ऋतुएँ भी थम सी गई ।
घनघोर घटा सी याद तेरी ।
जो छाते ही अकुला सी गई ।
पपिहे सा व्याकुल मन मेरा।
और बंजर धरती सी आस मेरी।
कोई और ही हैं...
जो मदमाते हैं।
सावन में 'रस' से,
भर जाते हैं ।
मैं तुमसे कहाँ कभी रीती हूँ ।
एक पल में सदियाँ जीती हूँ।
मन आज भी मेरा तरसा है।
बस नयन मेघ ही बरसा है।।
मन आज भी मेरा तरसा है।
बस नयन मेघ ही बरसा है।।


डॉ. मधूलिका मिश्रा त्रिपाठी 

Comments

Popular posts from this blog

हिन्दी की किताबे | Read hindi stories online

स्व. पंडित प्रताप नारायण मिश्र

वीर तुम बढ़े चलो | Veer Tum Badhe Chalo