Posts

Showing posts with the label हिन्दी साहित्य का इतिहास

हिन्दी साहित्य का इतिहास - 03

हिन्दी का उद्भव (केन्द्रीय हिन्दी निदेशालय)हिन्दी साहित्य का इतिहास (गूगल पुस्तक ; लेखक - श्याम चन्द्र कपूर)आधुनिक हिन्दी साहित्य का इतिहास (गूगल पुस्तक; लेखक - बच्चन सिंह)हिन्दी साहित्य का दूसरा इतिहास (गूगल पुस्तक ; लेखक - बच्चन सिंह)हिन्दी साहित्य का वैज्ञानिक इतिहास (प्रथम खण्ड) (गूगल पुस्तक ; लेखक - गोपीचन्द्र गुप्त)हिन्दी साहित्य का वैज्ञानिक इतिहास, खण्ड-२ (गूगल पुस्तक ; लेखक - गोपीचन्द्र गुप्त)हिन्दी साहित्य का इतिहास (हिन्दीकुंज में)साहित्य-इतिहास लेखन की परंपरा और आचार्य द्विवेदी की आलोचना के लोचन (मधुमती)हिन्दी साहित्य का इतिहास-पुनर्लेखन की समस्याएँ (डॉ. चंद्रकुमार जैन)हिन्दी का प्रथम आत्मचरित् अर्द्ध-कथानक - एक अनुशीलनHistory of the Hindi Language (हिन्दी सोसायटी, सिंगापुर)हिन्दी साहित्य का इतिहास (गूगल पुस्तक ; लेखक - श्यामसुन्दर कपूर)हिन्दी साहित्य प्रश्नोत्तरी (गूगल पुस्तक)रहस्यवादी जैन अपभ्रंश काव्य का हिन्दी पर प्रभाव (गूगल पुस्तक ; लेखक - प्रेमचन्द्र जैन)भारत के प्राचीन भाषा-परिवार और हिन्दी (गूगल पुस्तक ; लेखक - रामविलास शर्मा)हिन्दी साहित्य का आधा इतिहास (गूगल पुस…

हिन्दी साहित्य का इतिहास - 02

हिन्दी साहित्य का इतिहास

७५० ईसा पूर्व - संस्कृत का वैदिक संस्कृत के बाद का क्रमबद्ध विकास।
५०० ईसा पूर्व - बौद्ध तथा जैन की भाषा प्राकृत का विकास (पूर्वी भारत)।
४०० ईसा पूर्व - पाणिनि ने संस्कृत व्याकरण लिखा (पश्चिमी भारत)। वैदिक संस्कृत से पाणिनि की काव्य संस्कृत का मानकीकरण।
संस्कृत का उद्गम

३२२ ईसा पूर्व - मौर्यों द्वारा ब्राह्मी लिपि का विकास।
२५० ईसा पूर्व - आदि संस्कृत का विकास। (आदि संस्कृत ने धीरे धीरे १०० ईसा पूर्व तक प्राकति का स्थान लिया।)
३२० ए. डी. (ईसवी)- गुप्त या सिद्ध मात्रिका लिपि का विकास।
अपभ्रंश तथा आदि-हिन्दी का विकास

४०० - कालीदास ने "विक्रमोर्वशीयम्" अपभ्रंश में लिखी।
५५० - वल्लभी के दर्शन में अपभ्रंश का प्रयोग।
७६९ - सिद्ध सरहपद (जिन्हें हिन्दी का पहला कवि मानते हैं) ने "दोहाकोश" लिखी।
७७९ - उदयोतन सुरी कि "कुवलयमल" में अपभ्रंश का प्रयोग।
८०० - संस्कृत में बहुत सी रचनायें लिखी गईं।
९९३ - देवसेन की "शवकचर" (शायद हिन्दी की पहली पुस्तक)।
११०० - आधुनिक देवनागरी लिपि का प्रथम स्वरूप।
११४५-१२२९ - हेमचंद्राचार्य ने अपभ्रंश-व्य…